कुत्तों की नाक को देखकर पता लगाया जा सकता है उनके जीवन के बारें में,पढ़ें विस्तृत रिपोर्ट

कुत्तों की नाक को देखकर पता लगाया जा सकता है उनके जीवन के बारें में,पढ़ें विस्तृत रिपोर्ट

लंदन। ताजा अध्ययन कुत्ते पालने वाले लोगों के लिए बहुत उपयोगी हो सकता है क्योंकि वे केवल कुत्ते को देख कर ही चुन सकते हैं कि लंबे जीने वाले कुत्ते कौन से होंगे। यूके की साइंटिफिक रिसर्च में दर्शाया है कि छोटी लंबी नाक वाली प्रजाति के कुत्तों की सबसे अधिक जीवन प्रत्याशा होती है। अध्ययन में पाया गया है कि मध्यम सपाट मुंह वाली प्रजाति की जीवन प्रत्याशा सबसे कम होती है। विप्पेट्स जैसे छोटी लंबीं नाक जानवरों पर कई तरह के शोध किए जाते हैं। कुछ शोध के तरीके अजीब होते हैं तो कुछ के नतीजे। एक अनोखे शोध में करीब 5 लाख कुत्तों पर हुए विश्लेषण से वैज्ञानिकों ने यह बताया है कि कुत्तों की नाक या नुथने का उनकी जीवन प्रत्याशा यानी लंबा जीवन जीने की संभावना कैसी होगी। केवल नाक के आकार को देखकर ही बताया जा सकता है कि किस तरह के कुत्ते की उम्र लंबी होगी और किस तरह के कुत्ते के जीवन जीने की आशा कम होगी। क वाले कुत्तों की प्रजाति को डोलिचोसिफैलिक प्रजातियां कहा जाता है। इस तरह की प्रजातियों की जीवन प्रत्याशा सबसे लंबी होती है।जबकि इंग्लिश बुलडॉग जैसे मध्य आकार के सपाट मुंह वाले कुत्ते या ब्राचिसेफैलिक प्रजातियों के साथ उल्टा है। इस स्टडी में 584,734 कुत्तों के आंकड़ों का उपयोग किया गया जिसमें 150 विभिन्न प्रजातियों के कुत्ते शामिल थे। इसके जरिए शोधकर्तकाओं खास गणनाएं की और अपने नतीजे हासिल किए। इस अध्ययन से यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि किस तरह के कुत्तों को जल्दी मरने का जोखिम ज्यादा होता है।

क्रिस्टीन मैक्मिलन और उसके साथियों ने कत्तों के आंकड़े यूके के 18 अलग-अलग स्रोतों से हासिल किए। इसमें ब्रीज रजिस्टरीज, वेट्स, पेट इंश्यूरेंस कम्पनी, एनिमल वेलफेयर चैरिटी और शैक्षणिक संस्थान तक शामिल हैं। इनमें क्रॉसब्रीड और शुद्ध दोनों ही तरह की प्रजातियां शामिल हैं।इनमें से सभी कुत्ते उस समय मर चुके थे, जब उनके जानकारी के आंकड़े तैयार किए गए थे। इन आंकड़ों में प्रजाति के अलावा लिंग, पैदा होने और उनकी मौत की तारीख, वगैरह को शामिल किया गया था। विशुद्ध प्रजातियां को, छोटे, मध्य और बड़े आकार की तरह बांटने के साथ उनके सिर के आकार के के आधार पर भी वर्गीकृत किया गया था। मिनीएचर डचशुंड्स और शीटलैंड शीपडॉग्स जैसी छोटे डोलिचोसेफैलिक प्रजातियों में सबसे ज्यादा मेडिन लाइफ एक्सपेटेंसी, 13.3 साल पाई गई। वहीं मध्यम ब्रैचीसेफैलिक प्रजातियों में सबसे कम जीवन प्रत्याशा नर कुत्तों के लिए 9.1 साल जबकि मदादाओं के लिए 9.6 साल की पाई गई। तमाम तरह के आंकड़ों को जमा कर और उन्हें व्यवस्थित करने के बाद शोधकर्ताओं ने पहले हर प्रजाति की जीवन प्रत्याशा की गणना की। इसके उन्होंने क्रॉसब्रीड समूह की और फिर अंत में लिंग, आकार और सिर के आकार के आधार पर जीवन प्रत्याशा निकाली जिसके बाद वे अपने नतीजों पर पहुंच सके। 12 सबसे लोकप्रिय प्रजातियों में, जिनमें 50 फीसदी सबसे शुद्ध प्रजातियां थीं, लैबराडोस की जीवन प्रत्याशा13.1 साल, जैक रसल टैरियर्स की 13.3 साल, कैवेलियर किंग चार्ल्स सपैनियल्स की जीवन प्रत्याशा 11.8 साल की मिली थी। विशुद्ध प्रजातियों की जीवन प्रत्याशा (12.7 साल) मिश्रित प्रजातियों की जीवन प्रत्याशा (12.0 साल) से अधिक पाई गई।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

शिवपुरी से चुनाव कौन जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

Bureau Report