शिक्षक की विदाई के समय रो पड़ा पूरा गांव, डी जे के साथ घर तक छोड़ने गए गांव वाले

शिक्षक की विदाई के समय रो पड़ा पूरा गांव, डी जे के साथ घर तक छोड़ने गए गांव वाले

शिवपुरी… जब कोई एक सरकारी कर्मचारी वर्षों तक एक ही जगह रहकर अपनी ईमानदारी लगन और मेहनत से काम करता है तो उस जगह रहने वाले लोग भी उसे उतना ही प्रेम करते है । आपने सुना होगा कि कर्मचारी के रिटायर्ड होने पर पूरा गांव रो पड़ा है। परंतु आज जो बानगी निकलकर सामने आई है वह और ज्यादा चौंकाने वाली है। दरअसल जिले के पोहरी विधानसभा क्षेत्र के शासकीय प्राथमिक विद्यालय बागोदा में पदस्थ
शिक्षक ओमकुमार उपाध्याय बीते 31 दिसम्बर को सेवानिवृत हुए है। शिक्षक ओमकुमार उपाध्याय ने शासकीय प्राथमिक विद्यालय बागोदा में 37 साल पहले अपनी नौकरी की शुरुआत की और वह एक ही स्थान पर बीते 37 साल तक पदस्थ रहे।
जिसके चलते लोगों से उनका इतना आत्मीय लगाव हो गया कि गांव के लोग उन्हें छोडना नहीं चाहते। इसके चलते हालात यह रही कि यह गांव
नदी के दूसरी और होने के चलते ग्रामीणों ने शिक्षक ओमकुमार के गांव में ही रहने के लिए चंदा करके स्कूल की बिल्डिंग के ऊपर ही एक कमरा
बना दिया। जिसमें रहकर यह यहां पढ़ाते रहे। रिटायरमेंट से पहले शिक्षक ओमकुमार ने यहां अखंड रामायण का पाठ कराया और उसका भंडारा
दिया। इस भंडारे के बाद जो नजारा इस गांव में देखने को मिला वह विरले नहीं मिलता। यहां गांव के बुजुर्ग युवा और महिलाएं इन्हें बिदा करते रोने
लगी। इतना ही नहीं इस भंडारे के बाद ग्रामीणों के आग्रह पर इन्हें गांव में ही रोका गया और सुबह पूरे गांव ने चंदा एकत्रित कर डीजे बैंड मंगाया और
पूरा गांव एकजुट होकर गांव से ही पैदल-पैदल शिक्षक ओमकुमार को विदा करने उनके घर बैराड़ पहुंचे। शिक्षक के प्रति इतना प्रेम देखकर लोग भी देखते रह गए कि आखिर यह शिक्षक का ग्रामीणों से इतने प्रेम का कारण क्या है।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

शिवपुरी से चुनाव कौन जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

Bureau Report