उत्तर भारत में शीतलहर और कोहरे का कहर, अगले चार दिन मौसम विभाग का अलर्ट

– अगले चार दिन मौसम विभाग का अलर्ट, रेल, सड़क और हवाई यातायात प्रभावित

नई दिल्ली । सर्दी का सितम पूरे उत्तर भारत में जारी है। दिल्ली-एनसीआर, यूपी, पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्य सर्दी के साथ ही घने कोहरे की चपेट में हैं। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत के लिए अगले चार ‎दिनों तक बहुत घना कोहरा होने का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक, यूपी के बरेली, झांसी, वाराणसी, बहराइच, लखनऊ, और प्रयागराज ज़िले में विजिबिलिटी जीरो तक पहुंच गई है। एक तरफ जहां कोहरे के चलते रेल, सड़क और हवाई यातायात प्रभावित हो रहा है तो दूसरी तरफ बीते चार दिन से चल रही बर्फीली हवाओं के चलते ठिठुरन बढ़ गई है। रविवार सुबह भी घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग की तरफ से येलो अलर्ट जारी किया गया है, जबकि सोमवार से हल्का या मध्यम श्रेणी का कोहरा कुछ दिनों तक रहने की संभावना है। उत्तर-पश्चिम दिशा से आ रही बर्फीली हवाओं के चलते दिल्ली में ठंडक बढ़ने लगी है। शनिवार को कोहरे में मामूली सुधार देखने को मिला। सुबह के समय सफदरजंग में दृश्यता 600 मीटर, जबकि पालम में 500 मीटर दर्ज की गई। कोहरे के चलते तीन दर्जन से ज्यादा ट्रेन दिल्ली के विभिन्न स्टेशनों पर दो से लेकर छह घंटे तक की देरी से पहुंचीं। रेलवे अधिकारियों के अनुसार अगले कुछ दिन रेलगाड़ियों के प्रभावित रहने की संभावना है। वहीं कोहरे के चलते 50 से ज्यादा विमानों ने देरी से उड़ान भरी। हालांकि किसी विमान को डायवर्ट नहीं किया गया। वहीं कोहरे के बीच हादसों को रोकने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने नया प्रयोग शुरू किया है, जिसकी शुरुआत ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) से की गई है।
वाहन चालकों को अलर्ट करने के लिए फास्टैग कंपनियों की मदद से उन्हें मैसेज भेजा जा रहा है, जिसमें लोगों को सलाह दी जा रही है कि वह कोहरे के चलते धीमी गति से चलें। पहली बार एनएचएआई ऑल इंडिया रेडियो के जरिए भी लोगों को जागरूक कर रहा है। लोगों को संदेश दिया जा रहा है कि वो ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर चलते वक्त रिफ्लेक्टर लाइट का इस्तेमाल करें। लाल रंग की रिफ्लेक्टिव टेप लगाएं। इमरजेंसी में तत्काल 1033 पर कॉल करें। दिल्ली में एक बार फिर प्रदूषण तेजी से बढ़ने लगा है। शनिवार को प्रदूषण एक बार फिर गंभीर श्रेणी की दहलीज पह पहुंच गया। वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 दर्ज किया गया, जो बेहद खराब श्रेणी में आता है। यदि एक अंक और बढ़ा तो यह गंभीर श्रेणी में चला जाएगा। पिछले गुरुवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 358 था, जबकि शुक्रवार को 382 और शनिवार को 400 तक पहुंच गया है। विशेषज्ञों का मानना है कि दिल्ली में अगले तीन दिन सुधार की संभावना नहीं है। दो जनवरी तक प्रदूषण बेहद खराब श्रेणी में ही रहेगा। दिल्ली के 20 से ज्यादा क्षेत्रों में शनिवार को प्रदूषण गंभीर श्रेणी में रहा। मुंडका दिल्ली का सबसे अधिक प्रदूषित क्षेत्र रहा, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 451 दर्ज किया गया।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

शिवपुरी से चुनाव कौन जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

Bureau Report