बोर बेल ठेकेदार द्वारा सही काम न करने पर नगरपालिका ने लगाया नया टेंडर, पुराने ठेकदार ने जताई आपत्ति ।

बोर बेल ठेकेदार द्वारा सही काम न करने पर नगरपालिका ने लगाया नया टेंडर, पुराने ठेकदार ने जताई आपत्ति ।

सीएमओ बोले समय पर काम नहीं कर पा रहा देकर इसलिए दूसरा टेंडर काल किया है ।

ठेकेदार बोला यह अवैधानिक बिना नोटिस दिए कैसे टेंडर बुला लिया

शिवपुरी…जब से नई नगर पालिका का गठन हुआ है तब से नगरपालिका में बोर ठीक करने वाले ठेकेदार और पार्षदों की लड़ाई थम नहीं रही है । समधिया कॉरपोरेशन पर बोर ठीक करने का ठेका है समाधिया इस काम को कर भी रहे है । लेकिन पार्षद लगातार आरोप लगा रहे है कि ठेकेदार समय पर काम नहीं कर रहा है । पानी की समय के कारण जनता त्राहि त्राहि कर रही है ।यदि ऐसी हालत ठंडो में है तो गर्मियों में कैसे काम होगा । वहीं नगरपालिका में अब एक नया विवाद खड़ा हो गया है दरअसल नगर पालिका ने शहर में बोरों की खराब होने वाली मोटरों को सही करने का काम जिस ठेकेदार को दिया था, उसके द्वारा समय पर काम कराया जा रहा है। ऐसे में लगातार सामने आ रहे विवादों के चलते नपा ने खराब बोरों की मोटरें सही करने के नए टेंडर आमंत्रित किए हैं। वहीं ठेकेदार ने इन टेंडरों को अवैधानिक बताते हुए न्यायालय की शरण लेने की बात कही है। सीएमओ डा. केशव सगर के अनुसार नपा के द्वारा इस प्रक्रिया के माध्यम से जनहित को ध्यान में रखते हुए एक वैकल्पिक व्यवस्था की जा रही है क्योंकि ठेकेदार काम करने के लिए तैयार नहीं है। नपा ठेकेदार का ठेका निरस्त नहीं कर रही है। उनके अनुसार इस मुद्दे को परिषद के समक्ष रखा जाएगा और परिषद में इस विषय पर विचार विमर्श किया जाएगा कि ठेकेदार का टेंडर निरस्त करना है या नहीं।

उल्लेखनीय है कि नगर पालिका ने शहर की जनता को समय पर पेयजल सप्लाई करने के लिए सभी वार्ड में स्थित नपा के बोरों की मोटरों को खराब होने पर सही करने का ठेका मैसर्स समाधिया कार्पोरेशन को दिया है। टेंडर की शर्त के अनुसार समाधिया कार्पोरेशन को खराब मोटर 24 घंटे के अंदर सही करके वापिस बोर में डालनी थी। सीएमओ डा. केशव सगर का कहना है कि सभी वार्डों से ठेकेदार की शिकायतें मिल रही है कि वह
समय पर काम करके नहीं दे पा रहा है। कई जगह तो वह काम ही नहीं कर रहा है। ऐसे में आम जनता को परेशानी से निजात दिलाने के लिए हमने टेंडर काल किए थे। मंगलवार को टेंडर की आखिरी तारीख थी और छह लोगों ने अपने-अपने टेंडर डाल कर बोरों मोटर सही करने की सहमती जताई है।
बकौल सीएमओ अब अगर ठेकेदार निर्धारित समय पर बेर की खराब मोटर सही करके नहीं देता है तो जिन लोगों ने काम करने की सहमती जताई है उन्हें काम करने के लिए वर्क आर्डर दे दिया जाएगा। मोटर सही करने में जो भी खर्च आएगा वह ठेकेदार की राशि में से काट लिया जाएगा। सीएमओ के अनुसार इस व्यवस्था से शहर की जनता को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा और समय पर बोर सही होने के कारण उन्हें पेयजल मुहैया होता रहेगा।

वहीं ठेकेदार जितेंद्र समाधिया का कहना है कि नया ने यह टेडर काल करने के पहले उसे किसी भी प्रकार का कोई नोटिस नहीं दिया है। ऐसे में नया के यह टेंडर अवैधानिक है और वह इन टेडरों को लेकर न्यायालय की शरण लेगा। जितेंद्र के अनुसार उसे काम करते हुए सात महीने हो गए हैं। इन सात महीनों में उसे नपा से करीब 65 लाख का भुगतान लेना है, जिसमे से नपा ने महज ढाई महीने का 17 लाख रुपये का भुगतान किया है। इसमें भी 11 लाख रुपये पैनल्टी के नाम पर काट लिए और उसका कोई विवरण उसे नहीं दिया है। ठेकेदार के अनुसार बिना भुगतान के आखिर वह
काम कैसे करेगा।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

शिवपुरी से चुनाव कौन जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

Bureau Report